Digital Rupee क्या हैं और कैसे काम करता है? क्या फायदे है? जाने

Digital Currency : डिजिटल करेंसी यानी वर्चुअल करेंसी (डिजिटल रुपया) भारत में 1 नवंबर से शुरू हो गई है। रिजर्व बैंक ने 01 नवंबर 2022 को अपनी डिजिटल करेंसी लॉन्च की है। इसे सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC) के नाम से भी जाना जाता है। प्रारंभ में इस परियोजना में सरकारी और निजी क्षेत्र के लगभग 9 बैंकों को जोड़ा गया है। हालांकि अब इसे पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर शुरू किया गया है। अभी इसका इस्तेमाल थोक लेनदेन में किया जाएगा। इसका रिटेल इस्तेमाल भी 1 महीने के अंदर शुरू हो जाएगा। बता दें कि डिजिटल फॉर्म ब्लॉकचेन तकनीक पर आधारित होगा। इसका उपयोग उसी तरह किया जाएगा जैसे क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग किया जाता है।

आरबीआई के अनुसार, यह भुगतान का माध्यम होगा, जो सभी नागरिकों, व्यापार, सरकार और अन्य लोगों के लिए कानूनी निविदा के रूप में जारी किया जाएगा। इसका मूल्य सेफ स्टोर के लीगल टेंडर नोट (वर्तमान मुद्रा) के बराबर होगा। देश में आरबीआई की डिजिटल करेंसी (ई-रुपया) के आने से आपके पास नकदी रखने की जरूरत कम हो जाएगी। आरबीआई द्वारा विनियमित होने पर यह सुरक्षित रहेगा। सीबीडीसी देश का डिजिटल टोकन होगा।

रिजर्व बैंक ने 1 नवंबर से बड़े लेनदेन के लिए इस्तेमाल होने वाली डिजिटल मुद्रा के लिए कुल 9 बैंकों का चयन किया है। इन बैंकों में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ बड़ौदा, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक, यस बैंक, आईडीएफसी फर्स्ट बैंक और एचएसबीसी। इस प्रोजेक्ट की सफलता के बाद इसमें और बैंक भी जुड़ जाएंगे। 1 नवंबर से थोक लेनदेन के लिए डिजिटल रुपये का इस्तेमाल किया जाएगा। रिजर्व बैंक के मुताबिक इसका इस्तेमाल सरकारी प्रतिभूतियों की खरीद-बिक्री के लिए किया जाएगा। लेकिन एक महीने के भीतर इसका इस्तेमाल रिटेल ट्रांजैक्शन के लिए भी किया जाएगा।

दिन-प्रतिदिन के लेन-देन में आसानी
डिजिटल रुपया के 2 रूप हैं। एक खुदरा (CBDC-R) के लिए और दूसरा थोक (CBDC-W) उपयोग के लिए। खुदरा सीबीडीसी सभी उपभोक्ताओं यानी निजी क्षेत्र, गैर-वित्तीय उपभोक्ताओं और व्यवसायों के लिए खुला रहेगा। जबकि थोक सीबीडीसी चयनित वित्तीय संस्थानों के लिए होगा। खुदरा सीबीडीसी खुदरा लेनदेन का इलेक्ट्रॉनिक संस्करण है। लोग इसका इस्तेमाल रोजमर्रा के लेन-देन के लिए भी कर सकेंगे। जिससे लोगों को कैश ले जाने से राहत मिलेगी। साथ ही कई समस्याओं से भी निजात मिलेगी।

डिजिटल रुपये को UPI से जोड़ने की तैयारी
आप अपने मोबाइल वॉलेट में भी ई-रुपया रख सकेंगे। इसके अलावा यूजर्स इसे आसानी से बैंक मनी और कैश में भी बदल सकेंगे। आप किसी को भी भुगतान करने के लिए इस डिजिटल फॉर्म का उपयोग कर सकते हैं। सीबीडीसी खाते में इलेक्ट्रॉनिक रूप में दिखाई देगा और इसे मुद्रा नोटों के साथ भी बदला जा सकता है। जैसे हम अपने बैंक खाते का बैलेंस ऑनलाइन चेक करते हैं या मोबाइल वॉलेट चेक करते हैं, वैसे ही हम ई-रुपये का उपयोग कर पाएंगे। डिजिटल रुपया भी UPI से जोड़ने की तैयारी में है। डिजिटल करेंसी के आने से आम लोगों के लिए लेन-देन और सरकार के साथ व्यापार की लागत में कमी आएगी। हालांकि इस डिजिटल करेंसी के आने से देश के मौजूदा ट्रांजैक्शन सिस्टम में कोई बदलाव नहीं होगा। इससे लोग पेटीएम, फोनपे जैसे अन्य महत्वपूर्ण वॉलेट से लेनदेन कर सकते हैं।

Source : Internet

https://betultalks.com/gujarat-accident-about-141-people-died-in-morbi-bridge-accident-know-full-news/