Weather Update : 15 दिन तक लगेगा बारिश पर ब्रेक, अब चलेंगी सूखी हवाएं

Weather Update : भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने देश के कई भागों में भारी बारिश की संभावना जताई है तो कुछ राज्यों में बारिश की गतिविधियों में ब्रेक लगने की बात कहीं है। ऐसे में किसानों सहित आम व्यक्ति को मौसम के विषय में जानना बेहद जरूरी हो जाता है। जलवायु परिवर्तन के इस दौर में बारिश की असमानता देखने को मिल रही है। कहीं ज्यादा बारिश से नुकसान हो रहा है तो कहीं अभी भी बारिश की कमी दिखाई दे रही है। मौसम विभाग की रिपोर्ट के अनुसार अगले 24 घंटों के दौरान हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और पूर्वी उत्तर प्रदेश में अलग-अलग स्थानों पर भारी बारिश की संभावना है। वहीं पश्चिम बंगाल, सिक्किम, बिहार और उड़ीसा में अगले 48 घंटों के दौरान मूसलाधार बारिश हो सकती है। इसके अलावा असम व मेघालय में दो दिनों तक भारी बारिश  हो सकती है। अरुणाचल प्रदेश में भी बारिश की संभावना नजर आ रही है। इधर, झारखंड में भी अगले 24 घंटों के दौरान बारिश के आसार दिखाई दे रहे हैं। इधर निजी मौसम एजेंसी स्काईमेट वेदर की रिपोर्ट के अनुसार अगले 24 घंटों के दौरान बिहार, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम, असम, अरुणाचल प्रदेश और मेघालय में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश  की संभावना जताई गई है। वहीं गंगीय पश्चिम बंगाल, झारखंड, ओडिशा, छत्तीसगढ़, तेलंगाना, उत्तरप्रदेश, कोंकण और गोवा और अंडमान व निकोबार द्वीप समूह में हल्की से मध्यम बारिश  हो सकती है। इधर जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, हरियाणा के कुछ हिस्सों, मध्यप्रदेश के कुछ हिस्सों, विदर्भ, मराठावाड़ा, दक्षिण गुजरात, कर्नाटक और तमिलनाडु में एक या दो स्थानों पर हल्की बारिश की संभावना है।

आज हम आपको मौसम विज्ञान विभाग और स्काईमेट वेदर की रिपोर्ट के अनुसार प्रमुख राज्यों/शहरों के मौसम के 15 दिन के पूर्वानुमान की जानकारी दे रहे हैं।

Free photo beautiful landscape with green grass and the breathtaking view of the rainbow in the storm clouds

15 दिन तक लगेगा बारिश पर ब्रेक, फिर चलेंगी सूखी हवाएं

निजी मौसम एजेंसी स्काईमेट के मुताबिक पश्चिम राजस्थान में बारिश की गतिविधियों पर ब्रेक लग जाएगा। वहीं पूर्वी राजस्थान में कुछ स्थानों पर बारिश हो सकती है। इसके बाद सूखी हवाओं का दौर चलेगा। ऐसे में अगस्त के अंतिम सप्ताह में कोई बारिश की नहीं होती दिखाई दे रही है और सितंबर में मानसून की विदाई हो जाएगी। बारिश की गतिविधियों पर ब्रेक लगने और सूखी हवाएं चलने से मिट्‌टी में नमी में कम हो जाएगी जिससे सूखी जमीन पर किसानों को अधिक सिंचाई करनी होगी। बारिश नहीं होने और सूखा मौसम होने से किसानों की परेशानी बढ़ सकती है।

ऐसी ही मौसम से संबंधित जानकारी के लिए betultalks.com को फालो करे-

Chandrayaan 3 : लैंडर से चंद्रमा की सतह पर कैसे उतरा प्रज्ञान रोवर? देखे वीडियो

Rakshabandhan 2023 : बिना किसी डिलीवरी चार्ज के विदेश भेजें राखी-गिफ्ट