Raksha Bandhan 2023: भाई से पहले इन देवी-देवताओं को बांधें राखी, जानें क्यों?

Raksha Bandhan 2023 : रक्षाबंधन का त्यौहार भाई-बहन के प्यार का प्रतीक है। इस दिन बहन अपने भाई की कलाई पर राखी बांधती है और उसकी लंबी उम्र और खुशहाली की कामना करती है। बदले में भाई भी जीवन भर उसकी रक्षा करने और उसका साथ देने का वादा करता है। भाई-बहन के इस रिश्ते में प्यार और विश्वास की गहराई को समझना बहुत मुश्किल है। क्योंकि एक तरफ जहां हर छोटी-छोटी बात पर झगड़ने वाले भाई-बहन राखी के दिन एक-दूसरे का साथ देने का वादा करते हैं। इसीलिए कहा जाता है कि भाई-बहन के रिश्ते के आगे सारे रिश्ते फीके पड़ जाते हैं। बता दें कि इस साल रक्षाबंधन का यह पवित्र त्योहार 30 और 31 अगस्त को मनाया जाएगा.

Is Raksha Bandhan on 30 or 31 august in 2023 what is Rakshabandhan date  rakhi time without bhadara - अधिकमास और भद्रा के कारण रक्षा बंधन की तारीख  पर फिर कंफ्यूजन, पंचांग

रक्षाबंधन दो दिन मनाया जाएगा
रक्षाबंधन का त्योहार सावन की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है, जो 30 अगस्त की सुबह शुरू होकर 31 अगस्त की सुबह खत्म होगा. लेकिन 30 अगस्त को सुबह भद्रा शुरू हो रही है और भद्रा में राखी नहीं बांधी जाती. इसलिए राखी का त्योहार 30 अगस्त की रात 9.40 बजे के बाद मनाया जाएगा और 31 अगस्त की सुबह 7.05 बजे तक राखी बांधी जा सकेगी.

भाई से पहले इन देवी-देवताओं को बांधें राखी
रक्षाबंधन के दिन बहनें अपने भाई की कलाई पर राखी बांधती हैं और उनकी लंबी उम्र की कामना करती हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि भाई को राखी बांधने से पहले कुछ देवी-देवताओं को राखी बांधने की परंपरा है? इससे देवताओं का आशीर्वाद प्राप्त होता है। आइए जानते हैं रक्षाबंधन के दिन कौन से भगवान और किस रंग की राखी बांधनी चाहिए।

Rakha Bandhan Muhurat 2023: रक्षाबंधन पर पूरे दिन भद्रा का साया, जानें राखी  बांधने का सही समय | Sanmarg

भगवान गणेश: गणपति बप्पा को प्रथम पूज्य माना जाता है इसलिए राखी के दिन सबसे पहले भगवान गणेश को राखी बांधनी चाहिए। भगवान गणेश को लाल रंग की राखी बांधें।

भगवान शिव : राखी का त्योहार सावन माह की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। इसलिए इस दिन भोलेनाथ को राखी अवश्य बांधनी चाहिए। इस दिन शिवजी को नीले रंग की राखी बांधनी चाहिए।

भगवान कृष्ण: राखी बांधने की परंपरा तब शुरू हुई जब द्रौपदी ने कन्हैया को रक्षासूत्र बांधा था। कन्हैयाजी ने द्रौपदी को अपनी बहन माना और उसकी रक्षा का वचन दिया। इस दिन श्री कृष्ण को हरे रंग की राखी बांधें।

हनुमान जी: इस दिन हनुमान जी को राखी बांधने से मंगल दोष दूर होता है। इस दिन हनुमान जी को लाल रंग की राखी बांधनी चाहिए।

डिस्क्लेमर: यहां दी गई सभी जानकारियां सामाजिक और धार्मिक आस्थाओं पर आधारित हैं. betultalk.com इसकी पुष्टि नहीं करता. इसके लिए किसी एक्सपर्ट की सलाह अवश्य लें.

Vastu Tips : घर में लगा लें ड्रीम कैचर, नहीं आएंगे रात को डराने वाले सपने

Deepak Jalane Ke Niyam : जानें क्या है दीपक जलाने का नियम, किस दिशा में जलाने से होगा फायदा