PM Kusum Yojana : 90% छूट पर लगवाएं Solar Pump, जानिए कैसे करें आवेदन

PM Kusum Yojana, Free pump Connection Yojana , pump Connection Yojana , Crop Management, Agriculture News, Agriculture Scheme, PM Yojana , govt yojana , PM kisan Yojana , Free Pump Connection 2023, Free Tubewell Connection Yojana , Tubewell Connection Yojana , Crop Management, Agriculture News, Agriculture Scheme, PM Yojana , govt yojana , PM kisan Yojana , Free Pump Connection 2023,

न्यूज़ को शेयर करने के नीचे दिए गए icon क्लिक करें

PM Kusum Yojana : किसानों के लिए सिंचाई सुविधा का होना बहुत जरूरी है। बिना सिंचाई के फसल की अच्छी पैदावार कर पाना संभव नहीं है। यही वजह है कि किसानों के लिए समय-समय पर सिंचाई के लिए उन्नत तकनीक की खोज होती रहती है। सिंचाई की नई एवं उन्नत तकनीक के माध्यम से किसान अपनी फसलों की सिंचाई जरूरतों को पूरी कर सकते हैं। कॉम्पैक्ट सोलर पंप सिंचाई समस्या का एक ऐसा समाधान है, जो किसानों के लिए बेहद शानदार है। इस सोलर पंप की खासियत है कि इसे आप बिना बिजली के कहीं से भी ऑपरेट कर सकते हैं। PM Yojana सिंचाई संबंधी जरूरतों को पूरा करने के लिए यह कृषि यंत्र शानदार है। इससे सिंचाई के लिए किसानों के डीजल या पेट्रोल की खपत शून्य हो जाती है। इलेक्ट्रिसिटी की खपत भी शून्य हो जाती है। Yojana इस प्रकार किसानों की सिंचाई लागत में बहुत कमी आ जाती है। इस यंत्र को उपयोग करने वाले किसानों ने बताया है कि इस सिंचाई तकनीक का उपयोग करते हुए वह सालाना 16 हजार रुपए तक की बचत कर पा रहे हैं। इस उपकरण पर सरकारी योजना के माध्यम से 90% तक सब्सिडी का लाभ भी उठाया जा सकता है।

PM Kusum Yojana: सिर्फ 10% खर्च करने पर लग जाएगा सोलर पंप, किसानों की होगी लाखों रुपये की कमाई, जानिए कैसे - PM Kusum Yojana intall solar pump with 60 percent subsidy

कितना होगा फायदा

कॉम्पैक्ट सोलर पंप की मदद से बिना इलेक्ट्रिसिटी खर्च के, बिना पेट्रोल, डीजल एवं अन्य फ्यूल खर्च किए सिंचाई की जा सकती है, वो भी सिर्फ सोलर एनर्जी के जरिए। कई बार किसान ऐसा भी सोचते हैं कि इसका उपयोग तो सिर्फ गर्मी में ही किया जा सकता है, जब धूप बहुत तेज होती है। लेकिन ऐसा नहीं है। सोलर एनर्जी को इलेक्ट्रिक एनर्जी में कन्वर्ट करने के लिए जिस पैनल की मदद ली जाती है, वह सिर्फ सूर्य से मिलने वाली रोशनी को इलेक्ट्रिसिटी में कन्वर्ट करती है। यानी अगर थोड़ी भी रोशनी सौर पैनल को मिलती है तो इससे सिंचाई का काम लिया जा सकता है। ठंड का मौसम हो या बारिश व गर्मी का मौसम हो…इसे ऑपरेट करके इसका लाभ लिया जा सकता है। इससे किसानों की सिंचाई की लागत कम होगी। अगर आप 2 से 3 एकड़ जमीन वाले किसान हैं तो आप सालाना 16 हजार रुपए की बचत कर सकते हैं।

क्या है कॉम्पैक्ट सोलर पंप

कॉम्पैक्ट सोलर पंप एक बेहद छोटे आकार का सिंचाई पंप होता है। इस पंप की खासियत है कि यह सौर ऊर्जा से चलता है। इसका आकार मिक्सर के जार के जितना होता है। इसे कहीं भी आसानी से लेकर जाया जा सकता है और कहीं से लेकर आया जा सकता है। सामान्य तौर पर देखा जाता है कि सिंचाई के लिए भारी भरकम पंप को ले जाया जाता है। भारी पंप के जरिए सिंचाई की जाती है। लेकिन इस कॉम्पैक्ट सोलर पंप को महिलाएं भी आसानी से उठाकर ले जा सकती है और खेत की सिंचाई के लिए उपयोग में ला सकती है।

PM Kusum Yojana : 90% छूट पर लगवाएं Solar Pump, जानिए कैसे करें आवेदन

Government Scheme Farmers Sitting At Home From Solar Pump Will Earn Lakhs Read Details | Government Scheme: सोलर पंप से घर बैठे किसानों की होगी लाखों की कमाई, बस करना होगा यह

कितनी है कीमत

कॉम्पैक्ट सोलर पंप की वास्तविक कीमत 56000 रुपए प्रति यूनिट है। लेकिन अच्छी बात यह है कि इस पंप पर टाटा ट्रस्ट की ओर से 50% का अनुदान दिया जाता है। टाटा कंपनी किसानों की मूलभूत आवश्यकताओं को देखते हुए यह सकारात्मक कदम उठा रही है। 50% अनुदान के बाद इस सोलर पम्प की कीमत मात्र 26 हजार रुपए रह जाती है। इसका शुरुआती भुगतान भी मात्र 6000 रुपए देकर आप इसे घर ले जा सकते हैं। 6000 रुपए यानी मात्र 10% कीमत देना है, बाकी के 20 हजार रुपए आपसे किश्तों यानी ईएमआई में लिए जाएंगे। अच्छी बात यह है कि मात्र 2 साल में आप इस पंप को खरीदने में लगे पैसे को खेती में कम हुई लागत के जरिए वसूल पाएंगे। खेत वर्क्स एवं कई अन्य कंपनियां कम कीमत पर यह सोलर पंप दे रही है। आप ऑनलाइन या ऑफलाइन माध्यम से इस कॉम्पैक्ट सोलर पंप की खरीदी कर सकते हैं।

Preparation to give solar pump to farmers again after 3 years | 3 साल बाद फिर से किसानों को सोलर पंप देने की तैयारी - Dainik Bhaskar

सोलर पंप पर 90% भी मिलता है अनुदान 

अगर किसान सौर पंप की खरीदी पीएम कुसुम योजना के माध्यम से करते हैं तो आसानी से 60% का अनुदान केंद्र सरकार की ओर से मिल जाता है। केंद्र सरकार के साथ-साथ कई राज्य सरकार भी अनुदान देती है। हरियाणा सरकार अतिरिक्त 15% का अनुदान देती है, जिससे हरियाणा के किसान 75% अनुदान पर सौर पंप खरीद सकते हैं। वहीं झारखंड सरकार 30% का अनुदान देती है, जिससे कुल अनुदान (60+30)% यानी 90% का लाभ ले सकते हैं। हालांकि कुसुम योजना के माध्यम से किसानों को कम से कम 3 एचपी का सौर पंप खरीदना पड़ता है जिससे किसानों को इतना अनुदान मिलने के बावजूद भी सौर पंप की खरीदी महंगा पड़ता है। यही वजह है कि छोटे और मध्यम वर्गीय किसानों के लिए कॉम्पैक्ट सोलर पंप ही एक उपयुक्त एवं उचित विकल्प है। हालांकि आप अपनी सिंचाई जरूरतों के अनुरूप सही सिंचाई उपकरण खरीदने का निर्णय ले सकते हैं।

PM Ujjwala Yojana – उज्ज्वला योजना के तहत फ्री सिलेंडर के लिए ऐसे करें आवेदन

Abua Housing Scheme : सरकार ने आठ लाख लोगों के लिए स्वीकृत किये आवास, ऐसे उठाएं लाभ…

न्यूज़ को शेयर करने के नीचे दिए गए icon क्लिक करें

Related Articles

Back to top button