Pitru Paksha 2023 : जानिए सपने में पितरों का दिखना क्या संकेत देता है

Pitru Paksha 2023 : पितृ पक्ष में पितरों को याद किया जाता है। पितृ पक्ष वह समय है जब हिंदू धर्म के अनुयायी अपने पूर्वजों को श्रद्धा और सम्मान के साथ याद करते हैं। यह 15 दिनों की अवधि है जो भाद्रपद माह की पूर्णिमा से शुरू होती है और आश्विन माह की अमावस्या को समाप्त होती है। Pitru Paksha इस साल पितृ पक्ष 29 सितंबर से शुरू हो चुका है और 14 अक्टूबर को खत्म होगा. इस दौरान लोग पितरों के लिए श्राद्ध, तर्पण और पिंडदान जैसे धार्मिक अनुष्ठान करते हैं। Pitru Paksha 2023 इससे पितृ लोक में निवास करने वाले पितरों की आत्मा को शांति मिलती है। वे परिवार को आशीर्वाद देते हैं। इस समय लोग व्रत रखते हैं और ब्राह्मणों को दान देते हैं। Pitru अपने पूर्वजों का पसंदीदा भोजन बनाएं. पितृ पक्ष का महत्व पूर्वजों से जुड़े ऋण को चुकाने और उनके प्रति सम्मान प्रकट करने में है।

Pitru Paksha Puja at Home: शुरू हो गया है पितृ पक्ष, घर पर इस पूजा विधि से  करें श्राद्ध | Pitru Paksha Puja Vidhi at Home: How To Perform Shradh at  Home,

सपने में पितरों को देखना Pitru Paksha 2023

पितृ पक्ष के दौरान कई लोगों को सपने में अपने पूर्वज दिखाई देते हैं। स्वप्न शास्त्र के अनुसार इन सपनों में संदेश छुपे होते हैं। Pitru Paksha 2023 अगर आप अपने पूर्वज को अपने बेहद करीब महसूस करते हैं Pitru Paksha तो यह इस बात का संकेत है कि वह आपसे बात करना चाहते हैं या उनकी आत्मा को शांति की जरूरत है। ऐसे में आपको अपने पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए विशेष प्रयास करने चाहिए।

Pitru Paksha 2023 : जानिए सपने में पितरों का दिखना क्या संकेत देता है

Pitru Paksha 2022 Rules: Pitru paksha 2022 start from 10 september during  Shradh never eat this food - पितृपक्ष में केवल मांस मंदिरा ही नहीं बल्कि इन  चीजों का सेवन भी माना जाता है वर्जित

सपनों का संकेत Pitru Paksha 2023
अगर आपको बार-बार अपने पूर्वजों से जुड़े सपने आते हैं तो यह इस बात का संकेत है कि वे आपसे कुछ कहना चाहते हैं या फिर उनकी कोई इच्छा अधूरी रह गई है। अगर आपके सपने में आपके पूर्वज प्रसन्न मुद्रा में दिखाई दें तो यह एक शुभ संकेत माना जाता है। इसका मतलब है कि आपके पूर्वज आपसे संतुष्ट हैं और उन्होंने आपकी पूजा स्वीकार कर ली है। स्वप्न शास्त्र के अनुसार अगर पितर शांत मुद्रा में दिखाई दें तो यह भी एक शुभ संकेत माना जाता है। इससे यह स्पष्ट होता है कि पितर आपसे संतुष्ट हैं और जल्द ही आपके साथ कुछ अच्छा होने वाला है।

(अस्वीकरण: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और सूचनाओं पर आधारित है। betultalks.com इसकी पुष्टि नहीं करता है।)

Rudraksha Rules : रुद्राक्ष धारण करते समय इन बातों का रखें ध्यान, जानिए

Shardiya Navratri 2023: इस नवरात्रि कौन सा होगा मां का वाहन?