Pandit Pradeep Mishra : कथास्थल पर पहुंचने के लिए आसान होगी यातायात व्यवस्था

  • शहर के श्रद्धालुओं को बस से कथा स्थल तक लाने की की गई है व्यवस्था, आधा दर्जन प्वाइंट बनाए जाएंगे
  • सभी बस-कार वाहन मालिकों से सहयोग की अपील

बैतूल। शहर से सटे कोसमी क्षेत्र में आगामी 12 दिसंबर से पंडित प्रदीप मिश्रा की शिवपुराण कथा हो रही है। इस कार्यक्रम के लिए आयोजन समिति द्वारा युद्ध स्तर पर तैयारियां की जा रही हैं। कथा सुनने आने वाले श्रद्धालुओं के लिए मार्गों के साथ ही 5 स्थानों पर पार्किंग व्यवस्था भी तय कर दी गई है। इसके अलावा शहर के श्रद्धालुओं को कथा स्थल तक बस से लाने की व्यवस्था भी की गई है। आयोजन समिति ने सभी स्कूलों से , बस मालिकों से अपील की है कि वे भी स्वमेव अपने स्थान निश्चित कर श्रध्दालुओं के लिए आने-जाने की व्यवस्था करें।

गौरतलब है कि शिवधाम, किलेदार गार्डन, कोसमी फोरलेन स्थित कथा स्थल पर रोजाना बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचेंगे। श्रद्धालु आसानी से कथा स्थल तक पहुंच सके, उनके वाहन व्यवस्थित खड़े रखे जा सके और सुरक्षित भी रहे, इसका भी आयोजन समिति ने पूरा ध्यान रखा है। आयोजन समिति के यातायात प्रभारी नारायण पवार ने बताया कि कथा स्थल पर आने के लिए पांच रास्ते हैं। इनमें पहला मार्ग ईदगाह तिराहा के पास से है, दूसरा मार्ग एचएमटी फैक्ट्री के बगल से, तीसरा मार्ग जेके रेस्टारेंट के बगल से, चौथा मार्ग फोरलेन से और पांचवां मार्ग तितली चौराहे से होकर है।

बाहर से आने वाले के लिए तो तय रास्ता ही है, लेकिन शहर के श्रद्धालुओं के पास कथा स्थल तक आने के लिए कई यह सभी विकल्प है। शहर के श्रद्धालु अपने-अपने क्षेत्र से सबसे करीबी मार्ग कथा स्थल तक आने के लिए कर सकते हैं। जिससे कि किसी एक ही मार्ग पर ट्रैफिक न बढ़े और यातायात बाधित होने की स्थिति निर्मित न हो। इसके अलावा कथा स्थल से करीब रहने वाले श्रद्धालुओं से आयोजन समिति ने यह अपील भी की है कि वे वाहनों से आने की बजाय पैदल ही कथा स्थल पर पहुंचे ताकि कथा स्थल पर अव्यवस्था न हो।


इन स्थानों पर होगी वाहनों की पार्किंग

  • पार्किंग नंबर एक : यहां पर सारनी, शाहपुर, इटारसी, भोपाल की ओर से आने वाले वाहन पार्क किए जाएंगे। इसके लिए रामायण रेसीडेंसी में 20 एकड़ में पार्किंग बनाई गई है।
  • पार्किंग नंबर दो : यहां पर आमला, मुलताई, छिंदवाड़ा, नागपुर की ओर से वाहन पार्क किए जाएंगे। इसके लिए तितली चौराहा पर 15 एकड़ में पार्किंग बनाई गई है।
  • पार्किंग नंबर तीन : यहां पर खेड़ी, चिचोली, परतवाड़ा, इंदौर की ओर से आने वाले वाहन पार्क होंगे। इसलिए कोसमी में 11 एकड़ पार्किंग बनाई गई है।
  • पार्किंग नंबर चार : यहां बैतूल शहर के श्रद्धालुओं के वहां पार्क होंगे। इसके लिए इंडस्ट्रियल एरिया की खाली 20 एकड़ जमीन पर पार्किंग बनाई गई है।

बसों से भी लाया जाएगा श्रद्धालुओं को

आयोजन समिति के बस व्यवस्था प्रभारी राजेश आहूजा ने बताया कि कथा स्थल पर श्रद्धालुओं के वाहन कम से कम आए, इसके लिए समिति द्वारा शहर के श्रद्धालुओं को कथा स्थल तक लाने निःशुल्क बसों की व्यवस्था भी की जा रही है। इसके लिए कुछ स्कूल संचालकों द्वारा बस मुहैया कराई जा रही है, साथ ही । इन बसों से श्रद्धालुओं को लाने के लिए शहर में करीब आधा दर्जन प्वाइंट बनाए जा रहे हैं। यह बसें श्रद्धालुओं को लेकर कथा स्थल के करीबी ड्रॉप प्वाइंट पर छोड़ेगी। कथा के बाद वापस भी पहुंचाएगी। श्री आहूजा ने बताया कि यह बसें सुबह 10 से 12 और शाम को 4 से 6 बजे के बीच चलेगी।

उल्लेखनीय है कि कथा का समय दोपहर एक से चार बजे के बीच चलेगी। इसके अलावा निजी बस मालिकों से भी चर्चा की जा रही है ताकि वे बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं को आयोजन समिति के ड्रॉप प्वाइंट पर ही उतारे और वहीं से उन्हें बिठाले भी।

आटो संघ भी करेगा सेवा

आटो संघ ने भी शहर में कहीं से भी कथास्थल तक जाने के लिए मात्र 20 रू प्रति सवारी लेना तय किया है। सभी श्रध्दालुओं से व्यवहार का भी सभी ध्यान रखेंगे।