Ladli Behna Yojana : लाडली बहनों को मिली खुशखबरी, अक्टूबर से मिलेंगे 1250 रुपये

Ladli Behna Yojana : सीएम शिवराज सिंह चौहान ने लाडली बहना योजना की सवा करोड़ से ज्यादा बहनों के खाते में सिंगल क्लिक से 312.64 करोड़ रुपये की राशि ट्रांसफर की और उन्हें रक्षाबंधन से पहले खास तोहफा दिया. इसके साथ ही सीएम ने 2000 रुपये की राशि देने की घोषणा की है. योजना में बहनों को प्रति माह 1000 रुपये की धनराशि दी जा रही है। अक्टूबर माह से 1250 रूपये दिये जायेंगे। फॉर्म में दे दिया गया है, अब 10 सितंबर को योजना में 1000 रुपये जोड़ दिए जाएंगे.

सावन में प्यारी बहनों को 450 रुपये में मिलेगा रसोई गैस सिलेंडर
राशि बढ़ाने के साथ ही सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कई अहम घोषणाएं भी की हैं. सीएम ने कहा कि सावन के मौके पर प्यारी बहनों को 450 रुपये में रसोई गैस सिलेंडर मिलेगा. प्रिय बहनों के हित में आगे भी रसोई गैस सिलेंडर की स्थाई व्यवस्था की जायेगी। राज्य सरकार संबंधित गैस एजेंसी से जानकारी लेगी और सावन के इस शुभ अवसर पर प्यारी बहनों को उनके बैंक खाते में राशि जमा कर 600 रुपये प्रति माह तक की राशि की प्रतिपूर्ति की जाएगी। जिससे बहनों को रसोई गैस सिलेंडर की लागत मात्र 450 रुपये आये।

सरकारी भर्तियों में 35% आरक्षण, अन्य सुविधाएं भी
सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि पुलिस और अन्य भर्तियों में 35 फीसदी बहनों को नियुक्तियां दी जाएंगी. शिक्षक पद पर 50 प्रतिशत बहनों की नियुक्ति की जायेगी. स्थानीय निकायों में एल्डरमैन सहित अन्य पदों पर महिलाओं को प्राथमिकता दी जायेगी। बहन-बेटियों को बेहतर शिक्षा की व्यवस्था करते हुए बहनों की पढ़ाई की फीस सरकार देगी। बहनों का सम्मान सर्वोपरि है। अगर बहनें नहीं चाहेंगी तो किसी भी क्षेत्र में शराब की दुकान नहीं खुलेगी. इसके लिए आबकारी नीति में बदलाव किये जायेंगे.

बहनों की आय 10,000 प्रति माह तक बढ़ाने का लक्ष्य
सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्यारी बहनों को आजीविका मिशन के अंतर्गत आने पर सभी जरूरी लाभ मिलेंगे. आजीविका मिशन के तहत प्यारी बहनों को 2 प्रतिशत ब्याज पर ऋण उपलब्ध कराया जायेगा। ब्याज का भुगतान राज्य सरकार द्वारा किया जाएगा। स्ट्रीट वेंडर योजना का लाभ मिलेगा। औद्योगिक राज्यों में लघु उद्योगों के लिए भूखंड उपलब्ध होंगे। राज्य में बहनों के नाम पर स्टांप शुल्क अब एक फीसदी कर दिया गया है. लक्ष्य है कि बहनों की मासिक आय कम से कम 10,000 रुपये हो.

नई पात्र बहनों को भी लाभ मिलेगा
मुख्यमंत्री लाडली बहना योजना 2.0 के तहत 21 से 22 वर्ष की आयु वर्ग की 4 लाख 77 हजार से अधिक महिलाएं योजना के लिए पात्र हो गई हैं। एक लाख 26 हजार ट्रैक्टर मालिक परिवारों की महिलाओं को भी हर महीने 1 हजार रुपये दिये जायेंगे. इन सभी बहनों को 10 सितंबर से 1000 रुपये का लाभ मिलेगा, जबकि अक्टूबर से उनके खाते में 1250 रुपये मिलेंगे.

सीएम ने की महत्वपूर्ण घोषणाएं
सावन के शुभ अवसर पर बहनों को 450 रुपये में रसोई गैस सिलेंडर मिलेगा। बाद में स्थाई व्यवस्था की जाएगी ताकि बहनों को परेशानी न हो।
मुख्यमंत्री लाडली बहना योजना में बहनों को प्रति माह दी जाने वाली 1000 रूपये की राशि के स्थान पर अक्टूबर माह से 1250 रूपये की राशि दी जायेगी।
पुलिस एवं अन्य भर्तियों में 35 प्रतिशत बहनों को नियुक्ति दी जायेगी। शिक्षक पद पर 50 प्रतिशत बहनों की नियुक्ति की जायेगी.
स्थानीय निकायों में एल्डरमैन सहित अन्य पदों पर महिलाओं को प्राथमिकता दी जायेगी।
अगर बहनें नहीं चाहेंगी तो किसी भी क्षेत्र में शराब की दुकान नहीं खुलेगी. इसके लिए आबकारी नीति में बदलाव किया जाएगा।
गांवों में निःशुल्क प्लॉट और शहरों में अतिक्रमण से मुक्त प्लॉट बहनों को दिये जायेंगे।
मुख्यमंत्री आवास योजना में भी लाभ दिया जायेगा. सितंबर तक बढ़े हुए बिजली बिल की वसूली नहीं होगी। बिल 100 रुपए तक ही आएगा।
जिन गांवों में बिजली नहीं है वहां के 20 घरों की बस्तियों में भी बिजली पहुंचायी जायेगी. बिजली उपलब्ध कराने के लिए 900 करोड़ रुपये की व्यवस्था की गयी है.
चाचा पढ़ाएंगे लाडली बेटियों को। उनकी फीस भरी जाएगी, ताकि बेटियां भी ठीक से पढ़ सकें।
सभी प्यारी बहनें आजीविका मिशन के अंतर्गत आएंगी, उन्हें ऋण भी मिलेगा ताकि वे अपना काम शुरू कर सकें। इस ऋण का ब्याज मध्य प्रदेश सरकार द्वारा भुगतान किया जाएगा।
औद्योगिक आस्थानों में बहनों को उद्यमिता हेतु भूखण्ड प्राथमिकता पर दिये जायेंगे।
बहनों को गांव में रहने के लिए जमीन दी जायेगी. बहनों को शहर में माफिया से छीनी गई जमीन पर रहने के लिए प्लॉट दिया जाएगा।
बहनों से नहीं वसूला जाएगा बढ़ा हुआ बिजली बिल, बहनों को बढ़े हुए बिजली बिल से मिलेगी राहत।

मुख्यमंत्री लाडली बहना योजना में व्यय की गई राशि
जबलपुर से जारी हुई पहली किस्त- 1 हजार 209 करोड़ 64 लाख 47 हजार रुपए
इंदौर से जारी दूसरी किश्त- 1 हजार 209 करोड़ 62 लाख 19 हजार रुपए
रीवा से जारी की गई तीसरी किश्त – 1 हजार 209 करोड़ रुपये

Majedar Jokes : कुछ लोग धन के नाम पर तो कुछ धर्म के नाम पर लड़ते हैं..

परमाणु बम का आविष्कार सबसे पहले किस देश में हुआ था?