Jaya Kishori ने बताया कि उनको किससे प्यार है? खुद किया ऐलान

Jaya Kishori Marriage : कथावाचक जया किशोरी (Jaya Kishori) को कौन नहीं जानता? वह किसी परिचय की मोहताज नहीं हैं. सोशल मीडिया पर लाखों लोग जया किशोरी को फॉलो करते हैं. जया किशोरी (Jaya Kishori) एक कथावाचक जरूर हैं लेकिन वह ये भी कह चुकी हैं कि वह जिंदगी भर ब्रह्मचर्य का पालन नहीं करेंगी. वह आगे का जीवन गृहस्थ की तरह बिताना चाहती हैं. इस बीच, जया किशोरी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है, जिसमें जया किशोरी ने बताया कि उनको किससे प्यार है? कौन उनका सबकुछ है? ये भी जान लीजिए कि इसका वीडियो जया किशोरी ने खुद अपने ऑफिशियल अकाउंट से इंस्टाग्राम पर शेयर किया है.

Devotional singer Jaya Kishori gets nostalgic after contestant Atharv's  performance on Swarna Swar Bharat - Times of India

कौन है जया किशोरी का प्यार?

एक इंटरव्यू में जब जया किशोरी से पूछा गया कि आपका प्यार कौन है तो उन्होंने बताया कि उनके सबकुछ भगवान कृष्ण हैं. इसके अलावा जब जया किशोरी से ये पूछा गया कि उनका प्यार कौन है तो उन्होंने बताया कि उनका प्यार भी श्रीकृष्ण हैं.

jaya sharma became jaya kishori like this this fee is charged for reading a  story tvi | Jaya Kishori: जया शर्मा ने ऐसे तय किया जया किशोरी बनने तक का  सफर, जानें

श्रीकृष्ण की भक्त हैं जया किशोरी

जान लें कि जया किशोरी की भगवान कृष्ण में बहुत आस्था था. प्रभु श्रीकृष्ण की भक्ति में जया किशोरी लीन रहती हैं. जया किशोरी ने भगवान श्रीकृष्ण से जुड़े कई ऐसे भजन गाए हैं जिन्हें लोग खूब पसंद करते हैं. अपनी कथा में भी जया किशोरी किशोरी अक्सर भगवान कृष्ण के भजन सुनाती हैं.

https://www.instagram.com/reel/Cty1qWxu4kK/?utm_source=ig_embed&ig_rid=82679e6a-5479-482b-8f9a-2a3e02ae888c

जया किशोरी ने समझाया भक्ति का मतलब

एक अन्य वीडियो में जया किशोरी ये भी समझा चुकी हैं कि भक्ति आसान नहीं है? जया किशोरी ने कहा कि भक्ति आसानी नहीं होती है. ये हमें लगता है कि आसान है क्योंकि हम भक्ति का मतलब भजन-कीर्तन पूजा-पाठ समझ लेते हैं. लेकिन ऐसा नहीं है. भक्ति का अर्थ समर्पण होता है. समर्पण का मतलब व्यक्ति का मैं खत्म हो जाता है और सिर्फ भगवान ही रह जाते हैं.

जया किशोरी ने ये भी कहा कि लेकिन यह बहुत मुश्किल होता है. क्योंकि ज्ञान पाने के बाद भी आपका मैं खत्म नहीं होता है. तभी कई बार लोगों को अपने ज्ञान का अहंकार होता है. पर भक्ति में आपको अहंकार किस बात का होगा? आप हैं ही नहीं. इंसान कहता है कि मैं कुछ हूं ही नहीं तो अहंकार किस बात का.

Vastu Tips : घर में लगा लें ड्रीम कैचर, नहीं आएंगे रात को डराने वाले सपने

Bel Patra : जानिए कितने तरह के होते हैं बेलपत्र और क्या है इनका महत्‍व