Electricity Rates Hike : बिजली हुई महंगी, सरकार ने दी जानकारी

Electricity Rates Hike : अगर आप भी बिजली सस्ती होने का इंतजार कर रहे थे तो आपको बड़ा झटका लग सकता है. अब से राज्य सरकार ने बिजली दरों में बढ़ोतरी कर दी है. जी हां…त्रिपुरा स्टेट इलेक्ट्रिसिटी कॉर्पोरेशन लिमिटेड (TSECL) ने बिजली दरें बढ़ा दी हैं. Electricity Rates इस बार बिजली दरों में औसतन 5 से 7 फीसदी तक बढ़ोतरी हुई है. एक अधिकारी ने इसकी जानकारी दी है.

Electricity rates have been increased in Uttar Pradesh | उत्तर प्रदेश की  जनता को लगा मंहगी बिजली का झटका, घरेलू व औद्योगिक दरों में हुआ इजाफा | Hari  Bhoomi

नई दरें 1 अक्टूबर से लागू होंगी Electricity Rates Hike

आपको बता दें कि नई बिजली दरें 1 अक्टूबर, 2023 से प्रभावी होंगी। कभी लाभ कमाने वाली सरकारी इकाई टीएसईसीएल को वित्तीय वर्ष 2021-22 के दौरान कुल 280 करोड़ रुपये और 80 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है। चालू वित्तीय वर्ष के पहले तीन महीने।

Electricity Rates Hike : बिजली हुई महंगी, सरकार ने दी जानकारी

इससे पहले 2014 में बदलाव हुआ था Electricity Rates Hike

टीएसईसीएल ने इससे पहले 2014 में बिजली दरों में बदलाव किया था। Electricity Rates Hike वर्तमान में, उत्तर-पूर्वी राज्य में लगभग 10 लाख बिजली उपभोक्ता हैं।

काफी सोच-विचार के बाद ये फैसला लिया गया है Electricity Rates Hike

टीएसईसीएल के प्रबंध निदेशक देबाशीष सरकार ने पीटीआई-भाषा को बताया कि सभी कारकों पर विचार करने के बाद और त्रिपुरा विद्युत नियामक आयोग (टीईआरसी) के परामर्श से, बिजली निगम को बचाने के लिए बिजली दरों में औसतन 5-7 प्रतिशत की कमी की जाएगी। बढ़ोतरी की गई है।”

Punjab News: मुफ्त बिजली से पावर सेक्टर हाे जाएगा कंगाल, कराेड़ाें रुपये का  पड़ेगा अतिरिक्त बाेझ; दूसरे मीटर के लिए आए 60 हजार आवेदन - Free Electricity  in ...

बिजली के दाम क्यों बढ़ाए गए? Electricity Rates Hike

आपको बता दें कि बिजली दरों में बढ़ोतरी के पीछे मुख्य वजह गैस की कीमत में बढ़ोतरी है. Electricity Rates Hike पिछले कुछ सालों में इसमें करीब 196 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है.

सरकार ने दी जानकारी Electricity Rates Hike

सरकार ने कहा है कि पहले टीएसईसीएल गैस आधारित बिजली उत्पादन इकाइयों को चलाने के लिए गैस खरीदने पर प्रति माह 15 करोड़ रुपये खर्च करती थी, Electricity Rates Hike लेकिन अब यह खर्च बढ़कर 35-40 करोड़ रुपये प्रति माह हो गया है. बिजली दरें बढ़ाने के अलावा कोई विकल्प नहीं है।

News source Credit : Zeenews

Canada Visa Service Suspend : भारत और कनाडा के बीच तनाव, वीज़ा सेवा कर दी निलंबित 

2000 Notes : 2000 रुपये का नोट हुआ बंद, जाने पूरी खबर