Deepak Jalane Ke Niyam : जानें क्या है दीपक जलाने का नियम, किस दिशा में जलाने से होगा फायदा

Deepak Jalane Ke Niyam : हिंदू धर्म में पूजा के दौरान दीपक जलाने का अलग-अलग महत्व बताया गया है। ऐसा कहा जाता है कि बिना दीपक जलाए पूजा करने से व्यक्ति को पूजा का पूरा फल नहीं मिलता है। वहीं भगवान को भोग लगाने से पहले दीपक जरूर जलाया जाता है. Deepak Jalane Ke Niyam शास्त्रों में दीपक जलाने के कुछ नियम बताए गए हैं, जिनका पालन करने से घर में सकारात्मक ऊर्जा का वास होता है। साथ ही नकारात्मकता दूर होती है। Deepak Rules आइए जानते हैं दीपक जलाने के कुछ जरूरी नियमों के बारे में।

Photo clay diya lamps lit during diwali celebration. greetings card design indian hindu light festival called diwali

दीपक जलाते समय इन बातों का रखें ध्यानDeepak Rules

  • शास्त्रों में मंदिर में दीपक रखने की सही दिशा के बारे में बताया गया है, जिसके अनुसार घर की पश्चिम दिशा में दीपक रखना सबसे शुभ माना जाता है। पश्चिम दिशा में रखा दीपक घर में सकारात्मकता लाता है, जिससे सुख-समृद्धि का वास होता है।
  • ज्योतिष शास्त्र के अनुसार घर में कभी भी टूटा हुआ दीपक इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। यदि दीपक टूट गया है तो उसे तुरंत बदल दें, टूटा हुआ दीपक घर में अशांति, नकारात्मकता लाता है। Deepak Rules इससे पूजा का फल भी नहीं मिल पाता है। साथ ही आर्थिक तंगी का भी सामना करना पड़ सकता है।
  • बता दें कि शास्त्रों के अनुसार जब भी आप घर के मंदिर में दीपक जलाएं तो उसकी लौ का विशेष ध्यान रखें। दीपक की लौ हमेशा पूर्व दिशा की ओर होनी चाहिए। इससे घर में सुख, शांति और समृद्धि आती है। Deepak Rules इसके साथ ही दीपक जलाने वाले व्यक्ति की आयु लंबी होती है।
  • शास्त्रों में दीपक जलाने के साथ-साथ उसकी बाती को लेकर भी कुछ नियम बताए गए हैं। घी का दीपक जलाते समय केवल फूल की बाती का प्रयोग करना चाहिए। Deepak Rules तेल का दीपक जलाते समय लंबी बत्ती का प्रयोग करें। इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि पूजा के दौरान तेल का दीपक हमेशा दाईं ओर और घी का दीपक हमेशा बाईं ओर रखना चाहिए।
  • ज्योतिष शास्त्र के अनुसार दीपक की लौ को दक्षिण दिशा में रखना वर्जित है। इस दिशा में लौ रखने से धन की हानि होती है।

Astro Tips : आखिर क्यों हमें बैठे – बैठे कभी भी पैर नहीं हिलाने चाहिए ?

Nagchandreshwar Mandir Ujjain : वर्ष में केवल एक बार खुलता है ये मंदिर, नाग शैय्या पर विराजित है महादेव