Chanakya Niti : घर के मुखिया में अगर है यह गुण तो परिवार रहेगा खुशहाल

Chanakya Niti : चाणक्‍य के बारे में हम सभी जानते है, चाणक्‍य एक प्रसिद्ध कूटनितिज्ञ, राजनितिज्ञ आचार्य थे। उन्‍होने नीति शास्‍त्र की रचना की थी। आचार्य चाणक्‍य के नीतिशास्‍त्र में कई ऐसे नीतियों का जिक्र है, जो आपको सफलता की सीढ़ी में सर्वोच्‍च स्‍थान पर पहॅुचाने में मदद कर सकती है।

इसी कड़ी में चाणक्‍य ने घर के मुखिया के बार में कई बाते कही है, कि कैसे एक समझदार पारिवारिक मुखिया घर में खुशहाली ला सकता है, और अपने परिवार की तरक्‍की कर सकता है।

पैसे की बचत

आचार्य चाणक्‍य के अनुसार घर के मुखिया को पैसे की बचत करते आना चाहिये, घर के मुखिया की यह जिम्‍मेदारी होनी चाहिये, की वह पैसे की बचत करे ताकि भविष्‍य में जरूरत पड़ने पर किसी के आगे हाथ फैलाने की आवश्‍यकता न पड़े। इससे संकट के समय भी आप डटकर खड़े रहते है।

अपने फैसलो पर रहे अडिग

चाणक्‍य के अनुसार परिवार की तरक्‍की के लिये आपको कई बार अपने लिये हुए फैंसले बदलने पड़ सकते है, परंतु इसे अपनी आदत न बनाओ, अगर एक बार जो फैंसला ले लिया उस पर पूरा परिवार सहमत हो, तो उसे न बदले।

हर छोटी बातों पर ध्‍यान न दे-

चाणक्‍य के अनुसार घर के मुखिया को बिना किसी प्रमाण के हर किसी की बात पर भरोसा नही करना चाहिये। घर परिवार में मनमुटाव हो तो दोनो पक्षो की बात ध्‍यान से सुनना चाहिये। फैसला लेने से पहले ध्‍यान रखना चाहिये की किसी की अवहेलना न हो।

निर्णय लेते समय सावधानी

चाणक्‍य के अनुसार घर का मुखिया जब भी कोई निर्णय ले उसे इसे बात का ध्‍यान रखना चाहिये कि वह कोई भी फैसला जल्‍दबाजी में न ले, क्‍योकि आपका फैसला पूरा परिवार मानेगा। फैसला लेते समय पारिवारिक भावनात्‍मक पहलू का भी ध्‍यान रखे।

उम्‍मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा इसी तरह के अन्‍य लेख पढ़ने के लिये betultalks.com पर क्लिक करे।