Broccoli Ki Kheti – सरकार दे रही है ब्रोकली की खेती पर 75 प्रतिशत सब्सिडी, ऑनलाइन आवेदन शुरु

Broccoli cultivation, Vegetable development scheme started, Broccoli Ki Kheti , Subsidy for broccoli cultivation, Official website of Vegetable Development Scheme, Cauliflower, compensation, PM Kisan Fasal Bima Yojana , Crop Protection Scheme, Cotton Farming, Fasal ka Muavja , Fasal ka Muavja 2023, PM Kisan Yojana, PM Kisan , Yojana , PM Kisan Yojana update , PM ,

न्यूज़ को शेयर करने के नीचे दिए गए icon क्लिक करें

Broccoli Ki Kheti : सरकार की ओर से किसानों को महंगी सब्जियों की खेती के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। इसके लिए किसानों को 75 प्रतिशत सब्सिडी दी जा रही है। उसमें ब्रोकली भी शामिल है। ब्रोकली एक बहुत ही पोष्टिक सब्जी मानी जाती है। यह स्वास्थ्य की दृष्टि से काफी लाभकारी सब्जी है। यह सब्जी फूलगोभी की तरह दिखाई देती है। Broccoli Ki Kheti ब्रोकली एक ऐसी हरी सब्जी है जिसके भाव साधारण फूलगोभी से अधिक मिलते हैं। इसको कच्चा सलाद के रूप में खाया जाता है और इसकी सब्जी बनाकर भी खाई जाती है। स्वास्थ्य के लिए गुणकारी होने के साथ ही ब्रोकली की खेती किसानों को अधिक मुनाफा देने वाली साबित हो रही है।

Want to grow your own broccoli? We share our top tips for growing your own at home, and getting multiple harvests. Read more now.

ब्रोकली के क्या है फायदे

ब्रोकली में प्रचूर मात्रा में कैल्शियम, फाइबर, आयरन, जिंक, प्रोटीन, सेलेनियम और विटमिन -A,C पाया जाता है। इसके अलावा इसमें पॉलीफेनोल, ग्लूकोसाइड, पॉलीफेनोल क्वेरसेटिन सहित कई प्रकार के पोषक तत्व होते हैं। इसके प्रयोग से कई प्रकार की बीमारियों से बचाव होता है। माना जाता है कि ब्रोकली का सेवन करने से डायबिटीज, कैंसर, सिजोफ्रेनिया व ऑस्टियोआर्थराइटिस की बीमारियों की संभावना कम रहती है।

ब्रोकली की खेती पर कितनी मिलेगी सब्सिडी

राज्य सरकार की ओर से सब्जी विकास योजना (Vegetable development scheme started) शुरू की गई है। इसके तहत ब्रोकली की खेती (Broccoli cultivation) के लिए राज्य सरकार की ओर से 75 प्रतिशत सब्सिडी दी जा रही है। इसके तहत किसानों को ब्रोकली की खेती के लिए सब्जी के बिचड़ा उपलब्ध कराया जाएगा। उदाहरण के लिए यदि किसी सब्जी का बिचड़ा 10 रुपए प्रति इकाई है तो उस पर 75 प्रतिशत सब्सिडी मिलेगी यानि 7.50 रुपए की प्रति बिचड़ा सब्सिडी दी जाएगी। यानि किसान को एक बिचड़ा 2.50 रुपए का पड़ेगा। इस योजना के तहत राज्य सरकार की ओर से किसानों को सब्जी का बिचड़ा प्रत्येक किसान को न्यूनतम 1000 रुपए एवं अधिकतम 10,000 रुपए तक सहायतानुदान पर दिया जाएगा। सब्जी का बीज वाले किसानों को न्यूनतम 0.25 एकड़ एवं अधिकतम 2.5 एकड़ तक का बीज सहायतानुदान पर दिया जाएगा। किसानों को सब्जी के बिचड़े की उपलब्धता सेंटर ऑफ एक्सीलेंस (सब्जी), चंडी नालंदा से उपलब्ध कराया जाएगा। वहीं सब्जी के बीज बिहार राज्य बीज निगम, पटना के माध्यम से उपलब्ध कराया जाएगा।

This contains an image of: Harvesting Broccoli, How to Harvest Broccoli

कैसे करना होगा आवेदन Broccoli

सब्जी विकास योजना के तहत ब्रोकली की खेती के लिए सब्सिडी (Subsidy for broccoli cultivation) का लाभ रैयत कृषक, जमीन के कागजात के आधार पर तथा गैर रैयत कृषक एकरारनामा के आधार पर ले सकते हैं। एकरारनामा का प्रारूप सब्जी विकास योजना की आधिकारिक वेबसाइट (Official website of Vegetable Development Scheme) पर दिया गया है। किसान वहां से इसे आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं। बता दें कि इस यह योजना उद्यान निदेशालय, कृषि विभाग बिहार की ओर से चलाई जा रही है। इसमें पटना, मगध, तिरहुत प्रमंडल के सभी जिले के किसान इस योजना में आवेदन कर सकते हैं।  इस योजना में आवेदन के लिए आप इसकी आधिकारिक वेबसाइट https://horticulture.bihar.gov.in/ पर जाकर आवेदन कर सकते हैं। योजना से सबंधित अधिक जानकारी के लिए किसान संबंधित जिले के निदेशक उद्यान से संपर्क कर सकते हैं।

Broccoli Ki Kheti – सरकार दे रही है ब्रोकली की खेती पर 75 प्रतिशत सब्सिडी, ऑनलाइन आवेदन शुरु

कैसे की जाती है ब्रोकली की खेती

ब्रोकली की खेती  (Broccoli cultivation) बिलकुल फूलगोभी (Cauliflower) की तरह की जाती है। इसके बीज व पौधे देखने में करीब-करीब फूलगोभी की तरह ही दिखाई देते हैं। ब्रोकली को फूल खिलने से पहले ही पौधे से काट लिया जाता है क्योंकि यह खाने के काम आता है। फूल गोभी में एक पौधे से एक फूल मिलता है। वहीं बोकली के पौधे (bokali plants) से एक मुख्य गुच्छा काटने के बाद भी पौधे से कुछ शाखाएं निकलती हैं। इन शाखाओं से बाद में ब्रोकली के छोटे गुच्छे बेचने अथवा खाने के काम आते हैं। उत्तर भारत में इसकी खेती मैदानी इलाकों में सर्दी के दिनों में की जाती है। इसको सितंबर के मध्य के बाद से फरवरी तक उगाया जा सकता है। इसकी खेती के लिए बलुई दोमट मिट्‌टी (sandy loam soil) सबसे अच्छी रहती है। हालांकि इसकी खेती कई प्रकार की मिट्‌टी में की जा सकती है। इसके बीजों की बुवाई के करीब 4-5 सप्ताह में इसकी पौध खेत में रोपाई के लिए तैयार हो जाती है। ब्रोकली की नर्सरी (Broccoli nursery) भी आप फूलगोभी की नर्सरी (cauliflower nursery) की तरह ही तैयार कर सकते हैं। इसकी अधिकांश किस्में विदेशी है।

Cocer el brócoli, tres minutos y en su punto - Diario de Gastronomía: Cocina, vino, gastronomía y recetas gourmet

ब्रोकली की खेती से कितनी हो सकती है कमाई

कृषि जानकारों की मानें तो एक हैक्टेयर में ब्रोकली की 80 से 100 क्विंटल की पैदावार मिलती है। यदि बाजार में इसे बेचा जाए तो इसका रेट 50 रुपए प्रति किलोग्राम आसानी से मिल जाता है। यदि सही तरीके से इसकी खेती की जाए तो तीन से चार महीनों में ब्रोकली की खेती 4-5 लाख रुपए की कमाई की जा सकती है।

“योजनाओं” से जुडी जानकारी के लिए हमारे पेज betultalks.com को फॉलों व शेयर करें –

Dhan Kharid 2023 : कई द‍िन बीतने के बाद 12.21 लाख टन धान आया, पढ़े पूरी खबर

Ganne ka samarthan mulya : गन्ने का मूल्य बढ़ाने से 45 लाख किसानों को होगा लाभ

न्यूज़ को शेयर करने के नीचे दिए गए icon क्लिक करें

Related Articles

Back to top button