Betul News : सतपुड़ा वैली पब्लिक स्कूल के वार्षिक उत्सव ने रचा इतिहास


स्कूली बच्चों ने मंच पर दिखाया अपनी कला का हुनर

बैतूल। सतपुडा वैली पब्लिक स्कूल का वार्षिक उत्सव गाला नाइट सेलिब्रेटिंग कलर ऑफ लाइफ 2022-23 हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। शुक्रवार शाम 4:45बजे विधायक निलय विनोद डागा, श्रीमती निर्मला विनोद डागा ने दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम की शुरुआत की।


इसके पश्चात स्कूली बच्चों ने सर्वप्रथम नमोकार मंत्र पर शानदार नृत्य की प्रस्तुति दी। उल्लेखनीय है कि इस प्रस्तुति में शाला के कक्षा एक एवं 2 के नन्हे-मुन्ने बच्चे शामिल हुए। शाला के सीनियर विद्यार्थी द्वारा देवा श्री गणेशा वंदना पर नृत्य की प्रस्तुति दी गई। इस प्रस्तुति ने कार्यक्रम में उपस्थित लोगों का मन मोह लिया। इस अवसर पर स्कूल के प्रतिभावान बच्चों को पुरस्कृत किया गया, जिन्होंने विभिन्न खेलों और अकादमी में उत्कृष्ट स्थान प्राप्त कर अपने स्कूल का नाम रोशन किया।


—शिक्षा के साथ संस्कार भी जरूरी: निलय डागा—
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए बैतूल विधायक निलय डागा ने सबसे पहले स्कूली बच्चों को शुभकामनाएं देते हुए कहा प्रत्येक पालक अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा देना चाहते हैं, लेकिन मेरा मानना है कि बच्चों को शिक्षा के साथ-साथ अच्छे संस्कार भी देना जरूरी है, क्योंकि एक अच्छे संस्कार के बिना हम एक अच्छा भारत नहीं बना सकते।


—अब सतपुड़ा वैली मैं मिलेगी आईआईटी कोटा की कोचिंग—
इस अवसर पर स्कूल की डायरेक्टर श्रीमती दीपाली डागा ने स्कूल में शुरू की जाने वाली कोचिंग की घोषणा की। श्रीमती डागा ने बताया अभी तक हमारे जिले के छात्र-छात्राओं को उत्कृष्ट कोचिंग के लिए, जहां महानगरों पर निर्भर होना पड़ता था, वहीं अब छात्र-छात्राओं को यह सुविधा अपने बैतूल शहर में ही सतपुड़ा वैली पब्लिक स्कूल में मिल सकेगी। उन्होंने बताया छात्र-छात्राओं को इसी सत्र से आईआईटी, जेईई, नीट की कोचिंग क्लासेस कोटा के टीचरों द्वारा सतपुड़ा वैली में दी जाएगी। इसी के साथ सीए, सीएससी की कोचिंग सतपुड़ा वैली में दी जाएगी। सतपुड़ा वैली जिले का ऐसा पहला स्कूल है, जहां इस कृषि प्रधान देश में एग्रीकल्चर विषय की शुरुआत स्कूल में की जा रही है। इसके अलावा एनटीएसई और एनएसटीएसई, प्रमोस केवीपीवाय, साइंस ओलंपियाड और एनडीए की सुविधा भी सतपुड़ा वैली पब्लिक स्कूल में होगी। इसके अलावा खेल के क्षेत्र में भी खिलाड़ियों के लिए स्कूल में स्पोर्ट्स गतिविधियां शुरू की जा रही है। स्कूल मैनेजर शिव शंकर जी मालवीय ने बताया कि


—आज लिखेंगे कल की थीम पर दिखे बच्चे—
कार्यक्रम में बच्चों ने आज लिखेंगे की थीम पर अपनी कला का ऐसा हुनर दिखाया कि उपस्थित जनसमुदाय मंत्रमुग्ध हो उठे। छोटे-छोटे बच्चे महात्मा गांधी, डॉक्टर, किसान, आर्मी मैन, पुलिस, क्रिकेटर, महाराणा प्रताप सहित अन्य वेशभूषा में मंच पर नजर आए। कार्यक्रम के दौरान बच्चों ने देशभक्ति गीतों पर अपनी कला का प्रदर्शन किया, जिससे पूरा माहौल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा।


–सतपुड़ा वैली केंब्रिज विंग ने दी नृत्य की प्रस्तुति–
कार्यक्रम के दौरान सतपुड़ा वैली केंब्रिज विंग के विद्यार्थियों ने प्रसिद्ध सॉन्ग ड्रीमर पर सुंदर नृत्य की प्रस्तुति दी। इसके साथ ही सीनियर विद्यार्थियों द्वारा लाइट दि स्काय इंग्लिश सॉन्ग पर नृत्य की कला का प्रदर्शन किया। इस नृत्य की प्रस्तुति को देखकर उपस्थित श्रोता मंत्रमुग्ध हो गए कि उन्होंने वंस मोर की डिमांड कर दी। केंब्रिज स्कूल के विद्यार्थियों ने खेल-खेल में योग की प्रस्तुति दी। विद्यार्थियों की इस प्रस्तुति में यह दिखाया गया कि खेल-खेल में कैसे चलते-फिरते योगा किया जा सकता है और अपने स्वास्थ्य की रक्षा की जा सकती है।इसके अलावा केंब्रिज के विद्यार्थियों ने विंग विजनरी इंग्लिश ड्रामे की प्रस्तुति दी, जिसमें यह संदेश दिया गया कि वर्तमान समय में जिस तरह साइबर क्राइम की तर्ज पर बच्चों में जो दुष्प्रभाव पड़ रहे हैं उसे कैसे रोका जाए। इसके बाद वीआर सतपुड़ा वैली की शब्दावली पर सुरमई गीत की प्रस्तुति हुई। यह एक ऐसा बैंड था, जिसमें गायन से लेकर ताल से लेकर संपूर्ण संगीत संयोजन तक का प्रदर्शन बच्चों द्वारा किया गया, जिसे देख दर्शक भी हतप्रभ रह गए।


–स्वस्थ शरीर के लिए योग नृत्य का प्रदर्शन–
कार्यक्रम में सीबीएसई के विद्यार्थियों ने योग को दृष्टिगत रखते हुए इसे सीधे तौर पर मानव स्वास्थ्य से जोड़ा था। विद्यार्थियों ने योग नृत्य के माध्यम से यह संदेश दिया कि योग के द्वारा मानव कैसे अपने शरीर को स्वस्थ रख सकते हैं, इस प्रेरणादायक प्रस्तुति को काफी सराहना मिली। नाटकों के माध्यम से सामाजिक समरसता का संदेश दिया गया। छात्रों के द्वारा जो नाटक प्रस्तुत किए गए, जिसमें नाटक संक्रमण सतयुग की कहानी सकंलप के माध्यम से सत्यकेतु के चरित्र का वर्णन किया गया। वहीं नवरस पर आधारित नृत्य नाटिका कृष्ण दर्शन के माध्यम से भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का चित्रण बहुत ही प्रभावशाली तरीके से प्रस्तुत किया गया।


—गुजराती नृत्य ने बांधा समां—-
कार्यक्रम की इसी कड़ी में कक्षा 9वीं एवं 10वीं के बालक बालिकाओं द्वारा गुजराती धोलीडा धुन पर शानदार नृत्य की प्रस्तुति दी गई। इस विधा के बच्चों द्वारा पहनी गई गुजराती आकर्षक वेशभूषा आकर्षण का केंद्र बनी। इसके अलावा कक्षा तीसरी और पांचवी की बालिकाओं द्वारा बुद्ध सा मन, कक्षा छठवीं की बालिकाओं द्वारा ए भाई जरा देख के चलो, सातवीं एवं आठवीं की बालिकाओं द्वारा भारतवर्ष की बेटियों को अपना नृत्य समर्पित किया, जिन्होंने भारतवर्ष का नाम पूरे विश्व में रोशन किया। नृत्य के दौरान मंच के प्रोजेक्टर पर भारत की बेटियों पीवी सिंधु, मीताली राज, पीटी उषा सहित प्रसिद्ध बेटियों के चित्र नजर आ रहे थे। गौरतलब है कि बेटियों के सम्मान में बंधेया गीत पर यह प्रस्तुति दी गई थी।


—वाद्य यंत्रों पर भी दिखा बच्चों का हुनर—
कार्यक्रम में स्कूली बच्चों में हर विद्या का बेहतर प्रदर्शन देखने को मिला। स्कूली बच्चों ने वाद्य यंत्र पर भी अपनी कला का शानदार प्रदर्शन दिखाया। कभी तबले की ताल लहरिया सुनाई दी तो कहीं बहुत बड़े ग्रुप का ढोल पर धमाल, वहीं कुछ बच्चों द्वारा कीबोर्ड पर एक से बढ़कर एक थीम बजाई गई, जिसके कारण दर्शक तालियां बजाके खुश हुए। सतपुड़ा वैली के सीबीएसई स्कूल के बच्चों द्वारा सर्वप्रथम निर्गुण भक्ति प्रार्थना हर देश में तू हर वेश में तू की प्रस्तुति दी गई। इस प्रस्तुति में सबसे खास बात यह देखने में आई छोटे-छोटे बच्चों के मुंह से प्रार्थना के लिए निकले अत्यंत मिठास से भरे सुर श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर रहे थे। वहीं दूसरी प्रस्तुति जोकि नौवीं और दसवीं के विद्यार्थियों द्वारा दी गई इंग्लिश मेशअप वेस्टर्न गीत जो बच्चों द्वारा बड़ी उमंग और उत्साह के साथ की गई। गीत समाप्ति के पश्चात लोगों ने वंस मोर के जोरदार नारे लगाने शुरू कर दिए। कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण आज लिखेंगे कल गीत कि जब प्रस्तुति शुरू हुई, इसमें संगीत की सारी विशेषता नजर आई। चाहे वह शास्त्रीय, आलापतान हो या फिर रैप सॉन्ग हो भविष्य में प्रगति के पथ पर आगे बढ़ने का संदेश देने वाला यह गीत लोगों के लिए अविस्मरणीय बन गया।


–भव्य मुक्ताकाश मंच पर लाइट और साउंड ने बिखेरा जलवा–
कार्यक्रम की सबसे बड़ी विशेषता भव्य मुक्ताकाश मंच पर भव्य लाइटिंग और बेहतरीन साउंड के रूप में देखने को मिली, जिससे कार्यक्रम में मौजूद प्रत्येक दर्शक भी वाह-वाह कर उठे। यह बैतूल के सांस्कृतिक संध्या के आयोजन की श्रंखला में ऐतिहासिक आयोजन बन गया, जिसकी सभी दर्शकों ने मुक्त कंठ से सराहना की। कार्यक्रम की समाप्ति के पश्चात स्कूल परिवार की ओर से सभी पालको एवं अतिथियों को स्नेह भोज करवाया गया। कार्यक्रम के अंत में आभार स्कूल के प्रिंसिपल श्रीमती जया चक्रवर्ती ने व्यक्त किया।


–बच्चों के साथ थीम सॉन्ग पर आज लिखेंगे कल पर झूमे विधायक निलय डागा–
कार्यक्रम समाप्ति के बाद मुक्ताकाश मंच पर स्कूली बच्चों ने थीम सॉन्ग आज लिखेंगे कल पर जब नृत्य शुरू किया तो बैतूल विधायक निलय डागा भी अपने आप को रोक नहीं पाए और उन्होंने मंच पर पहुंचकर बच्चों के साथ जमकर नृत्य किया। यह देख बच्चों के पालक भी उत्साहित हो गए और मंच सहित कार्यक्रम स्थल पर दर्शक नृत्य करते नजर आने लगे।इस संपूर्ण कार्यक्रम को सफल बनाने में समस्त सतपुडा वैली परिवार ने अपना योगदान दिया