बसंत पंचमी पर पूजा में ये चीजें शामिल करना न भूलें, मां सरस्वती होंगी प्रसन्न

बसंत पंचमी 2024 , Basant Panchami 2024, Saraswati Puja 2024, Basant Panchami, Bhog, Food Diary, हलवा, Curd, Besan ladoo, Basant Panchami, Basant Panchami Date 2024 Basant Panchami Puja, Basant Panchami Special, Saraswati Puja,

न्यूज़ को शेयर करने के नीचे दिए गए icon क्लिक करें

Basant Panchami 2024 :- बसंत पंचमी, जिसे हम सरस्वती पूजा भी कहते हैं, हर साल माघ शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को पड़ती है. इस दिन स्कूल से लेकर घरों में मां सरस्वती की पूजा और आराधना की जाती है. इस साल सरस्वती पूजा बुधवार 14 फरवरी को मनाई जाएगी. बसंत पंचमी के दिन लोग घर पर ज्ञान, कला और संगीत की देवी शारदा की पूजा करते हैं और उनके निमित्त व्रत रखते हैं. बसंती पंचमी को ज्ञान पंचमी और श्रीपंचमी भी कहा जाता है. ऐसा कहा जाता है कि इस दिन देवी सरस्वती को प्रसन्न करने के लिए पूजा थाली में विशेष चीजों को जरूर शामिल करना चाहिए. इन चीजों से देवी शारदा का आशीर्वाद मिलता है और साथ ही पूजा भी सफल होती है. अगर आप भी सरस्वती पूजा की तैयारी कर रहे हैं तो आपको यह जानना बेहद जरूरी है कि किन चीजों को पूजा थाली में शामिल करना फलदायी माना गया है. (Basant Panchami 2024)

basant-panchami-from-gujrati-khandvi-to-zarda-pulao-celebrate-saraswati- pooja-with-these-healthy-recipes - Basant Panchami: गुजराती खांडवी से लेकर ज़र्दा पुलाव तक, इस हेल्दी प्लैटर के साथ ...

बसंत पंचमी पूजा सामग्री (Basant Panchami 2024)

  • लौंग
  • सुपारी
  • हल्दी, कुमकुम
  • तुलसी दल
  • जल के लिए एक लोटा या कलश
  • रोली, सिंदूर
  • लकड़ी की चौकी
  • आम के पत्ते
  • सफेद तिल के लड्डू
  • सफेद धान के अक्षत
  • घी का दीपक
  • अगरबत्ती और बाती
  • एक पान, सुपारी
  • मां सरस्वती की मूर्ति या तस्वीर
  • पीले वस्त्र
  • पीले रंग के फूल और माला
  • पके हुए केले की फली का पिष्टक
  • मौसमी फल, गुड़, नारियल
  • भोग के लिए मीठे पीले चावल, मिष्ठान मालपुआ, बूंदी के लड्डू, केसर का हलवा

कैसे करें बसंत पंचमी का व्रत? (Basant Panchami 2024)
बसंत पंचमी वाले दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठकर सभी कामों से निवृत्त हो जाएं. इस दिन सुबह स्नान करने के बाद पीले रंग के कपड़े पहनें. सरस्वती माता की विधि-विधान से पूजा करें और व्रत का संकल्प लें. इसके बाद देवी को पीले चावल का भोग लगाएं और अपना व्रत शुरू करें. इस दिन सत्विक भोजन का ही सेवन करें. अगले दिन मुहूर्त में ही प्रसाद ग्रहण कर अपना व्रत खोलें.

सरस्वती पूजा के पीछे की कहानी क्या है? - Quora

बसंत पंचमी का महत्व (Basant Panchami 2024)
देवी सरस्वती को समर्पित बसंत पंचमी के इस त्योहार का लोग बेसब्री से इंतजार करते हैं. इस दिन सभी घरों, मंदिरों, स्कूल और कॉलेज में मां सरस्वती पूजा की धूम देखने को मिलती है और कई तरह के कार्यक्रम भी आयोजित किए जाते हैं. धार्मिक मान्यता है कि इस दिन देवी सरस्वती प्रकट हुई थीं. मां सरस्वती को पीला रंग बेहद प्रिय माना जाता है. इसलिए इस दिन पीले वस्त्र पहने जाते हैं और मां सरस्वती को मीठे केसर के चावल, पीले फल समेत कई खास चीजों का भोग लगाया जाता है. ऐसा कहा जाता है कि बसंत पंचमी के दिन पीले रंग का इस्तेमाल करने से जीवन में सुख-समृद्धि में वृद्धि होती है.

न्यूज़ को शेयर करने के नीचे दिए गए icon क्लिक करें

Related Articles

Back to top button