Basant Panchami 2024 – बसंत पंचमी पर इस दिशा में स्थापित करें मां सरस्वती की प्रतिमा, ज्ञान की होगी प्राप्ति

बसंत पंचमी 2024 , Basant Panchami 2024, Saraswati Puja 2024, Basant Panchami, Bhog, Food Diary, हलवा, Curd, Besan ladoo, Basant Panchami, Basant Panchami Date 2024 Basant Panchami Puja, Basant Panchami Special, Saraswati Puja,

न्यूज़ को शेयर करने के नीचे दिए गए icon क्लिक करें

Basant Panchami 2024 :- इस साल बसंत पंचमी का त्योहार 14 फरवरी को मनाया जाएगा. हिंदू कैलेंडर के अनुसार यह त्योहार माघ माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाया जाता है। इस दिन लोग, खासकर बच्चे ज्ञान की देवी मां सरस्वती की विधि-विधान से पूजा करते हैं और ज्ञान, कला समेत समृद्धि की कामना करते हैं। आपको बता दें कि यह दिन शिक्षा और कला के क्षेत्र में नई शुरुआत का प्रतीक माना जाता है। इसके अलावा इसी दिन से वसंत ऋतु की शुरुआत होती है. ऐसे में अगर आप मां सरस्वती की मूर्ति स्थापित करने की सोच रहे हैं तो ऐसा करने से पहले आपको वास्तु शास्त्र के कुछ नियमों का पालन जरूर करना चाहिए। इससे आपके जीवन में शुभ परिणाम आएंगे। साथ ही आपका ज्ञान भी बढ़ेगा. आइए यहां विस्तार से जानते हैं… (Basant Panchami 2024)

Basant Panchami: इस दिशा में लगाएं मां सरस्वती की तस्वीर, जमकर बरसेगी कृपा - vastu tips to place maa sarwasti statue in right position-mobile
Basant Panchami 2024 – बसंत पंचमी पर इस दिशा में स्थापित करें मां सरस्वती की प्रतिमा, ज्ञान की होगी प्राप्ति

जानिए शुभ समय (Basant Panchami 2024)
पंचांग के अनुसार माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि 13 फरवरी 2024 को दोपहर 02:41 बजे शुरू होगी, जो अगले दिन यानी 14 फरवरी 2024 को दोपहर 12:09 बजे समाप्त होगी. इस दौरान पूजा का शुभ समय सुबह 07 बजे से शुरू होकर दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक रहेगा.

इन नामों से यह पर्व मनाया जाता है (Basant Panchami 2024)

  • बसंत पंचमी
  • श्री पंचमी
  • सरस्वती पंचमी

इन नियमों का पालन करें (Basant Panchami 2024)

वहीं, अगर आप ज्ञान की देवी मां सरस्वती की मूर्ति स्थापित करने की सोच रहे हैं तो उससे पहले वास्तु के ये नियम जान लें। अगर आप अपने घर में मां सरस्वती की मूर्ति स्थापित करने की सोच रहे हैं तो आपको वास्तुशास्त्र के इन नियमों का पालन करना चाहिए। जिससे घर में सकारात्मक ऊर्जा बनी रहेगी।

  • वास्तु शास्त्र में दी गई जानकारी के अनुसार, उत्तर दिशा में मां सरस्वती की मूर्ति स्थापित करना बहुत शुभ माना जाता है। इसलिए इस दिशा में देवी मां की मूर्ति या तस्वीर लगाने से आपको हर क्षेत्र में सफलता मिलेगी।
  • वास्तु शास्त्र के अनुसार इस बात का ध्यान रखें कि मां सरस्वती कमल के फूल पर बैठी हुई मुद्रा में हों। यह मुद्रा उनकी सुंदरता, सौम्यता और आशीर्वाद को दर्शाती है।
  • साथ ही मूर्ति की अच्छी गुणवत्ता पर भी ध्यान दें क्योंकि खंडित या खंडित मूर्ति स्थापित करने से नकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश हो सकता है।

(अस्वीकरण: यहां दी गई जानकारी केवल मान्यताओं और सूचनाओं पर आधारित है। एमपी ब्रेकिंग न्यूज किसी भी प्रकार की मान्यता या जानकारी की पुष्टि नहीं करता है। किसी भी जानकारी या मान्यता पर अमल करने से पहले संबंधित ज्योतिषी से सलाह लें।)

न्यूज़ को शेयर करने के नीचे दिए गए icon क्लिक करें

Related Articles

Back to top button